Thursday, December 29, 2016

हरयाली

बकरी चरती  थी घास
एक दिन लपकी
खेतों की तरफ
हरी हरी हरयाली देख
भटक गयी जंगल में
सूरज ढला
और हो गयी शाम
-------


No comments:

Post a Comment