Thursday, December 29, 2016

हरयाली

बकरी चरती  थी घास
एक दिन लपकी
खेतों की तरफ
हरी हरी हरयाली देख
भटक गयी जंगल में
सूरज ढला
और हो गयी शाम
-------


डेंगू का मच्छर

ये है डेंगू  का  मच्छर
काटता है दिन भर
रात होते ही
दुबक जाता है कोने में

उसूलों का ये है पक्का
रहता साफ़ पानी में
पानी जो हो जाए गन्दा
बंद हो जाए इसका धंधा

नेताजी बोले
डेंगू से क्या डरना
दिन में कपडे पहनो
रात में नंगे फिरना

पानी साफ़ न  रहने दो
करदो इसको  गन्दा
 कूलर पंखा बंद करो
एसी में मौज करो





पतझड़ के मौसम

लू से झुलसे चेहरे ये पतझड़ के मौसम
गर्मी की लपट और अंधड़ के मौसम
सुकून, शांति, इत्मिनान अब कहाँ
दुनिया में फैल गए धडपड के मौसम
कभी तूफान, ओले, धूल भरी आंधियां
रोज़ रंग बदलते हैं गड़बड़ के मौसम
पेड़ झूमे, पानी बरसा  बादल  छाये
झूमते गाते आते हैं बढ़चढ़ के मौसम
क्यों खामोश पड़े हो  बंद कमरे में
बहार निकल कर देखो खड़बड़ के मौसम



Wednesday, January 6, 2016

परछाइयाँ



सूनी पड़ी हैं अब वह अँगनाइयां
गूँज उठती थें जहाँ कभी शहनाइयां

ज़माने का क्या मैं शिकवा करूँ
दूर तक पहुंची हैं मेरी रुस्वाइयां

सर पे सूरज था तो साया भी साथ था
धूप  जाते  ही  मिट गयी हैं परछाइयाँ


भूले बिसरे रिश्ते याद आते नहीं
अब दर्द देती नहीं हैं पुरवाइयां

सिर्फ आँखों में आंसू भरने के लिए
काम कब आती हैं तन्हाईयाँ